छोटा परिवार सुखी परिवार?

कुछ समझदार लोगो की समझ मे ये बात आई है के छोटा परिवार सुखी परिवार होता है, एक शादी करो और दो बच्चे बस इतना काफी है हालांकि ये समझदारी वाली बात नही है।
अपनी समझ को थोड़ी देर के लिए आराम करने दें और इस तहरीर को पढ़ें।

रसूल -ए- करीम ने ग्यारह औरतो से निकाह फरमाया और आप की चार बांदिया भी थी, आप की अवलाद -ए- किराम की तादाद सात है।

हज़रते अबु बकर सिद्दीक़ रदिअल्लाहु त'आला अन्हु की 4 बीवियां थी जिन से आप की 6 अवलाद थी ।

हज़रते उमर फारूक रदिअल्लाहु त'आला अन्हु ने 10 औरतो से निकाह फरमाया जिन से आप की 15 अवलाद थी। आप के पोतो, पोतियों, नवासों और नवासियो कि तादाद 29 है।

हज़रते उस्मान ग़नी रदिअल्लाहु त'आला अन्हु की 8 बीविया थी और आप की अवलाद की तादाद 16 है।

हज़रते मौला अली रदिअल्लाहु त'आला अन्हु ने 9 औरतों से निकाह फरमाया और आप की अवलाद की तादाद 36 है।

हज़रते ज़ुबैर बिन अव्वाम ने 9 औरतो से निकाह फरमाया जिन से आप की 20 अवलाद थी। 

हज़रते अब्दुर रहमान बिन औफ ने 15 औरतो स निकाह फरमाया और आप की अवलाद की तादाद 28 है। 

इमाम हसन रदिअल्लाहु त'आला अन्हु की 10 से ज़ाएद बीविया थी जिन से आप नई 17 या 18 अवलाद थी। 

इमाम हुसैन रदिअल्लाहु त'आला अन्हु ने 5 निकाह फरमाए और आप की अवलाद की तादाद 6 है। 

हज़रते तल्हा बिन उबैदुल्लाह रदिअल्लाहु त'आला अन्हु की अवलाद की तादाद 15 है। 

हज़रते अमीर -ए- मुआविया रदिअल्लाहु त'आला अन्हु की बीवियों की तादाद 4 और अवलाद कि 6 है। 

हज़रते साद बिन अबी वक़्क़ास रदिअल्लाहु त'आला अन्हु ने 11 औरतो से निकाह फरमाया और आप की अवलाद की तादाद 36 है। 

हज़रते सईद बिन ज़ैद रदिअल्लाहु त'आला अन्हु की अवलाद की तादाद 31 है। 

हज़रते हसन मुसन्ना की 5 बीविया थी। 

हज़रते उमर बिन अब्दुल अज़ीज़ की 3 बीविया और 1 बांदी थी जिन से आप की 16 अवलाद थी

हज़रते बाबा फरीद गंजे शकर रहिमहुल्लाह ने 4 निकाह फरमाए और आप की अवलाद की तादाद 8 है। 

शैख़ बहाउद्दीन ज़करिया मुल्तानी रहिमहुल्लाह ने 2 निकाह किए जिन से आप की अवलाद 10 थी। 

ये हम ने कुछ हस्तियों के नामो का ज़िक्र किया है जो हम से ज़्यादा समझदार और इबादत गुज़ार थे। पूछना ये है की क्या इन हज़रात को मालूम नही था कि छोटा परिवार सुखी परिवार होता है?
ये फैमिली प्लानिंग करना अच्छे लोगो का काम नही है बल्कि अच्छे लोग तो वो है जिन की ज़्यादा बीविया और ज़्यादा अवलाद है। 
अपनी सोच को बदले ताकि आप को सुखी परिवार की तारीफ मालूम हो सके। 

अब्दे मुस्तफ़ा

Post a Comment

Leave Your Precious Comment Here

Previous Post Next Post