मलाज़किर्द एक यादगार जंग


एक बड़ी फौज जिस में 35 हज़ार सिपह सालार (कमांडर) और कमांडर के साथ 2 लाख सवार,

इस के साथ 35 हज़ार फिरन्गी,

क़ुस्तनतुनिया से 15 हज़ार जंगजू,

1 लाख खुदाई करने वाले,

1 लाख दीवार में शिगाफ करने वाले,

चार सौ बैल गाड़ियों पर फौजियों के हथियार और दीगर सामान,

एक ऐसी मिन्जनीक़ (पत्थर फेंकने वाला आला) जिसे 1200 लोग मिल कर चलाते थे और कई क़िस्म के आलात ले कर शाहे रूम रोमानोस इस इरादे से निकला कि इस्लाम और अहले इस्लाम का नामो निशान मिटा देगा पर उसे क्या खबर थी कि अपनी जान हथेली पर रख कर घूमने वाले मुसलमान साँस ले रहे हैं और जब तक आखिरी साँस बाक़ी है वो खून के आखिरी क़तरे तक मुक़ाबिला करेंगे।

उसे खुद पर इतना भरोसा था कि जंग से पहले अपने कमांडर को शहर बाँट दिये थे हत्ता कि बगदाद को एक कमांडर की जागीर में दे दिया था।


उस काफ़िर से मुक़ाबिले के लिये सुल्तान अल्प अर्सलान अपनी फौज के साथ आगे बढ़े जिस की तादाद बीस या पच्चीस हज़ार थी!

जब सुल्तान अल्प अर्सलान ने उन की तादाद देखी तो थोड़ी देर के लिये परेशान हुये। पर एक आलिमे दीन, फक़ीह अबू नसर मुहम्मद बिन अब्दुल मलिक हनफ़ी ने उन को हौसला दिया और कहा कि :

सुल्तान, जुम्आ के दिन जंग कीजिये जब खुत्बा में मुजाहिदीन के लिये दुआ की जा रही हो, ऐन उस वक़्त दुश्मन पर हमला कर दें! अल्लाह त'आला फतह अता फरमायेगा।


अगर आज का जम्हूरियत का मारा आलिम होता तो कहता कि सुल्तान साहिब ये तो मौत को दावत देने के मुतरदिफ़ है। इतने बड़े लश्कर से लड़ने की हमारी ताक़त नहीं लिहाज़ा अमन, शान्ति, हिक्मत और मस्लिहत।


जुम्आ का दिन आया, सुल्तान अल्प अर्सलान ने मैदाने जंग में अपनी पेशानी को रखा और अल्लाह त'आला से फ़तह वा नुसरत की दुआ की और फिर अल्लाह त'आला की मदद आन पहुँची।

हज़ारों ने लाखों को धूल चटाने पर मजबूर कर दिया। शाह रूम रोमानोस को गिरफ्तार कर लिया गया।


ये कोई मामूली बात नहीं थी कि एक मुख्तसर से लश्कर ने इतने बड़े लश्कर को धूल चटा दी। इस वाक़िये ने रूमियों की कमर तोड़ कर रख दी। रूमी शहंशाहियत की बुनियादें हिल गयीं। उन इलाक़ों में रूमियों की सल्तनत कमज़ोर हो गयी और सलजोक़ी सलतनत का परचम बुलंद हुआ फिर आगे चल कर इस सल्तनत के खातिमे पर सल्तनते उस्मानिया की बुनियाद रखी गयी।


(تاریخ ابن کثیر، ج12، ص108، و دولت عثمانیہ، ص81)


अ़ब्दे मुस्तफ़ा

Post a Comment

Leave Your Precious Comment Here

Previous Post Next Post