सुल्तान सलाहुद्दिन अय्युबी और गुस्ताख़े रसूल


इस्लामी तारीख के अज़ीम हीरो सुल्तान सलाहुद्दिन अय्युबी ने कभी किसी जंगी क़ैदी को सज़ा नहीं दी। 

आप ऐसे शफीक और रहीम थे कि दुश्मनों के लिए भी दिल में नर्मी थी। 


आप ने युरोप के एक शेहज़ादे को अपनी तलवार से काटा था क्युंकि उस्ने नबी ए करीम  ﷺ की क़ब्र उखाड़ने और मदीने की इंट से इंट बजाने की बात की थी। 


ग़ाज़ी सलाहुद्दीन अय्युबी ने कहा था की अगर मैं उसे अपनी तलवार से मौत के घाट ना उतारता तो फिर मैं अपने आक़ा ﷺ को रोजे मेहशर क्या मूँह दिखाऊँगा? 


(ہفت روزہ ایشیا، لاہور، جنوری 2011 بہ حوالہ کار آمد تراشے) 


अब्दे मुस्तफा ऑफिशियल

Post a Comment

Leave Your Precious Comment Here

Previous Post Next Post